• Sunday, December 18, 2022

    Top 2 Daravani Kahaniyan | Online Shopping ki डरावनी कहानि - Story

    Top 2 Daravani Kahaniyan | Online Shopping ki डरावनी कहानि - Story

    Top 2 Daravani Kahaniyan | Online Shopping ki डरावनी कहानि

    दोस्तों Hindi Best Stories, blog में आपका स्वागत है। आज मै 2 Daravani Kahaniyan/ डरावनी कहानियाँ आपको सुनाऊंगा। Online line shopping की Daravani सच्ची कहानि और एक Daravani School की कहानि। ये कहानी जरूर आपके रोंगटे खड़े कर देंगी। उम्मीद कर ता हु आप को ये Horror Story पसंद आएगी।

    तो शुरू करते है सच्ची Daravani Kahaniyan हिंदी मै।


    1. Online shopping Daravani Kahaniyan (डरावनी कहानियाँ)

     

    यह बहुत पहले की बात है, मैं और मेरी Room partner एक बड़ा सा Sofa खरीदना चाहते थे, बाहर shops में तो ऐसा Sofa बहुत ही महंगा था । इसीलिए हमने सोचा कि कोई Second hand Sofa Online ढूंढते हैं, हमने कई सारी websites देखी और फिर एक website पर हमे ऐसा सोफा मिल गया जैसा की हमको चाहिए था। वो एक Black leather sofa था जो की बहुत ही बड़ा था, बिल्कुल वैसा जैसा हमको चाहिए था और उसकी condition भी बहुत अच्छी लग रही थी और उसका price भी कुछ ज्यादा ही कम था।

    तो हमने सोचा कि जल्दी से इसको खरीद लेते हैं नहीं तो कोई और उसको ले लेगा। हमने उसे पैसे की बात करि और उसको बताया की हम वह सोफा खरीदना चाहते हैं, लेकिन खरीदने से पहले हम एक बार उसको देखना चाहते हैं। उसने अपना address दिया और बोला की शाम को आकर check कर लेना, लेकिन शाम को मेरी रूम पाटनर की Night shift थी, इसलिए मुझे अकेले ही उस address पर जाना पड़ा।


    Also, read : Hindi Horror Stories - वो पायल की आवाज़ | Horror Kahani Hindi

    उसका address हमारे घर से काफी दूर था, मैं जब उस जगह पहुंची तो देखा की वह इलाका तो बिल्कुल सुनसान था और आसपास ज्यादा घर भी नहीं थे। वो घर ऐसी जगह पर था कि अगर किसी को उस घर के बारे में पता ना हो तो सड़क से निकलते हुए उस घर की तरफ ध्यान भी ना जाए। तो मै अपनी car से उतरी और उनके दरवाजे पर जाकर knock किया, यह पक्का वह घर नहीं था जो मैने photo मैं देखा था।

    मैंने दो बार दरवाजा खटखटाया लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला, लेकिन जैसे ही मैंने तीसरी बार दरवाजा खटखटाया मुझे अंदर से कोई हल्की सी आवाज आती सुनाई दी मानो की कोई दबे पांव चल रहा है। तभी दरवाजे की दूसरी तरफ से एक दबी हुई आवाज आई hey तुम sofa check करने आई हो ना, मैंने कहा हां, उसने कहा ठीक है, पीछे से आ जाओ सोफा वही रखा है। उसकी आवाज बहुत जल्दबाजी सी लग रही थी, मुझे थोड़ा अटपटा सा तो लगा लेकिन मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। Read full Daravani Kahaniyan.


    Also, read : Horror Story in Hindi Written - छठी मंज़िल | सच्ची डरावनी कहानिया

    Online shopping Daravani Kahaniyan

    जब मैं पीछे पहुंची तो जो मैंने देखा वह मैं पूरी जिंदगी भुला नहीं पाऊंगी। मैंने देखा कि 4 लंबे लंबे आदमी काले कपड़ों में एक दूसरे के हाथ पकड़े खड़े हुवे है, और उनके सामने एक बड़ा सा सूअर खड़ा था जो कि चैन में बंधा हुआ था। वह देखते ही एक बार के लिए मुझे तो लगा मुझे Heart attack आ जाएगा, तभी उनमें से एक ने बोला Hey अरे तुम्हारे दोस्त कहां है, बस वो सुनते ही मैं वहां से इतनी तेजी से भागी जितने मैं अपनी जिंदगी में कभी नहीं भागी थी।

    Also, read : Bhutiya Kahaniyan - Mysterious Park | भूतिया कहानी - Horror Story

    वह लोग शायद उम्मीद नहीं कर रहे थे कि कोई लड़की इतनी तेज भी भाग सकती है, लेकिन मैं school time से athlete थी और बहुत तेज भागती थी। मैं जल्दी से अपनी car में पहुंची और Car start कर के वहां से भाग निकली, Car में पहुंचते ही मैंने उस घर की तरफ दोबारा देखा, तो देखा कि किसी ने वह gate एक झटके से खोला। उससे आगे मैं नहीं देख पाई क्योंकि मैं वहां से भाग निकली थी।

    लेकिन जिस चीज ने मुझे सबसे ज्यादा परेशान कर दिया था और आज तक परेशान कर रखा है। वो यह है की मैंने उनको कभी नहीं बताया था कि मेरी roommate भी है।


    Also, read : Most Haunted Place in India - Top 10 Haunted and Horror Place in India School की Daravani Kahaniyan

    2. School की Daravani Kahaniyan


    आज की कहानी भेजी है Bengaluru से James ने कहानी बिल्कुल सच्ची है और आगे की कहानी बिल्कुल वैसे ही जैसे James ने भेजी है। यह बात आज से करीब 15 साल पहले की है, जब मैं अपने Boarding School में पढ़ा करता था। हमारा School Christian Convent School था, जो कि एक बहुत ही पुरानी church के पास बना था। हमारे School का इलाका बहुत ही बड़ा था, जिसमें Hostel playground वगैरह सब कुछ था।


    Also, read : Hindi Horror Story - 10 $ घंटे की भूतिया कहानी - Haunted Story 

    एक बार हमारे यहां एक नई building बनाई जा रही थी Hostel के लिए, तो उसके लिए जमीन की खुदाई की जा रही थी, खुदाई के दौरान वहां जमीन के नीचे से बहुत सारी इंसानों की दबी हड्डियां निकाली गई, कई सारे नर कंकाल पाए गए फुल स्केलेटन उनमें से कुछ हो तो हमारे principal ने हमारी Bio Lab में ही रखवा दिया था। कुछ वही दवे रहने दीया क्योंकि वह टूटी फूटी हालत में थे। Read More :Daravani Kahaniyan.

    कुछ दिनों बाद ही वहा नई Hostel की building बन के तैयार हो गई और वहां पर बच्चे रहने लगे, building के पीछे की तरफ लोहे की सीढ़ियां बनी हुई थी Emergency के लिए, नई Building बनने के कुछ दिन बाद ही अजीब अजीब सी घटनाएं होने लगी बिल्डिंग में किसी के room में चीजें अपने आप गिरने लगती तो किसी को सोते हुए कोई साया पकड़ कर हिला देता, किसी को समझ नहीं आ रहा था कि क्या हो रहा है।


    Also, read :  Top 3 Bhoot ki Kahani - भूत की कहानी | True Horror Story

    Sacchi Daravani Kahaniyan

    School की management ने भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया, यह सोच कर कि बच्चे आपस में मजाक ही करते होंगे लेकिन धीरे-धीरे मामला serious होता गया। एक रात पांचवी मंजिल पर रहने वाले एक बच्चे ने ऊपर से कूदकर खुदकुशी कर ली, सब तनाव में आ गए पुलिस ने छानबीन शुरू की तो यही नतीजा निकला कि बच्चे ने खुद छलांग लगाई थी। बिल्डिंग से क्योंकि वहां और कोई नहीं था लेकिन अगले 1 महीने में तीन और बच्चे बिल्कुल उसी तरह बिल्डिंग से कूद गए और मर गए।

    Also, read : Pizza Delivery Horror Story in Hindi Part - 1 | पिज्जा डिलीवरी की -डरावनी कहानी

    इसके बाद school management के तो होश उड़ गए सब ने मान लिया कि यहां जरूर कोई ऊपरी चक्कर है। अगले ही दिन साथ वाली church के बूढ़े फादर को बुलाया गया, वह उस लोहे की सीढ़ी के पास आते ही समझ गए कि यहीं कुछ गड़बड़ है। उन्होंने principal को बोलकर उन सीढ़ियों को बंद करवा दिया और उसका शुद्धिकरण किया, बूढ़े फादर ने बताया कि जहां वह building बनी थी वहां भूतों का पूरा कबीला रहता था और बिल्डिंग बनने से वह सारे भूत बहुत नाराज हो गए थे।

    Also, read : Hindi Kahani for Kids - शेर और गाय की कहानी 

    Bhoot ki kahani in hindi

    इसीलिए यह सब हरकतें हो रही थी, वहां और जो बच्चे building से कूदे थे वह अपनी मर्जी से नहीं बल्कि उन को जबरदस्ती भूतों ने धक्का दिया था। बिल्डिंग से फादर बाहर को आते और holy water से उस जगह की शुद्धि करके जाते, धीरे-धीरे सारी अजीब हरकतें कम होती चली गई। बिल्कुल बंद तो नहीं हुई थी, क्योंकि उसके बाद भी कई बच्चों ने बताया कि उनके कमरे का सामान इधर उधर हो जाता है।

    Also, read : Munshi Premchand ki Kahani in Hindi - कफ़न Story in Hindi

    लेकिन खुदकुशी का कोई case दोबारा नहीं हुआ, मैं उसके बाद 2 साल और उस school में पढ़ा लेकिन मुझे कुछ ऐसा महसूस कभी नहीं हुआ। हां लेकिन रात में उन सीढ़ियों के पास जाने में जरूर डर लगता था।

    तो ये थी आज की 2 Daravani Kahaniyan, कैसी लगी अगर पसंद आई हो तो comment और Share जरूर करें। आपको किस types के story पसंद है भूतों, चुड़ैलों, जंगलों के या किसी और type के comment में जरूर बताएं अभी के लिए Good by.

     

    Also, read.

    ➤ Real Horror Story in Hindi

    ➤ Hindi Kahani

    ➤ Historic Story

    ➤ Writing

    ➤ Movie

    No comments:

    Post a Comment