• Sunday, October 2, 2022

    Chanakya Niti in Hindi - Chanakya Neeti | आचार्य चाणक्य नीति

    Chanakya Niti in Hindi - Chanakya Neeti | आचार्य चाणक्य नीतिChanakya Niti in Hindi - Chanakya Neeti

    Chanakya Neeti, चाणक्य नीति, चाणक्य नीति इन हिंदी पीडीएफ, चाणक्य नीति जीवन जीने की, Thought Chanakya Niti, Chanakya Neeti Hindi, Chanakya Niti in Hindi, Chanakya Neeti in Hindi pdf, Chanakya Niti Hindi, Chanakya Niti for Motivation in Hindi.


    स्वागत है आपका हमारे Blog, Hindi Best Stories मै, आप ने इतिहास के सबसे बुद्धिमान चालाक व्यक्ति आचार्य चाणक्य की जीवन कथा पढ़ी होगी। आज हम आपको चाणक्य नीति में बताएं गये कुछ Chanakya Niti in Hindi मै आप के साथ शेयर कर रहा हु। उम्मीद करता हूं आपको यह Chanakya Neeti पसंद आएगी।

    Also, read : Chanakya Biography in Hindi - चाणक्य की जीवन परिचय 

    दोस्तों इतिहास के सबसे बुद्धिमान, चतुर और चालाक इंसानों में शुमार किए जाने वाले आचार्य चाणक्य का नाम तो आप लोगो ने बहुत बार सुना होगा। दरअसल उनके द्वारा बनाई गई नीतियां इतनी जबरदस्त होती थी की बड़े से बड़ा चालाक इंसान भी उन्हें भांप नहीं पाता था। यहाँ तक कि आज के Modern Business Management के भी बहुत से principal चाणक्य के द्वारा बताई गई उन्हीं के हजारों साल पुरानी नीतियों से मेल खाती है।

    आज के हमारे इस blog में भी हम आपको Chanakya Niti में बताए गए कुछ ऐसे अहम Business Lesson के बारे में बताने वाले हैं, जिन्हें अपनाकर आज दुनिया में ना जाने कितने लोग और कितनी Company सफलता हासिल कर चुकी है

    तो चलिए अब शुरू करते हैं Chanakya Niti in Hindi. मीठी जुबान का प्रयोग करें

    1 - मीठी जुबान का प्रयोग करें।

    दोस्तों आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति गंदी भाषा का इस्तेमाल करता है। वो बहुत जल्दी बर्बाद हो जाता है और इस बात को अच्छे से समझने के लिए चलिए हम एक उदाहरण की मदद लेते हैं।

    उदाहरण - अब कुछ समय पहले की बात है कि बाजार के अंदर दो दुकानदार गुड बेचा करते थे। उन में से एक दुकानदार का गुड एकदम उच्च quality का था, जबकि दूसरे दुकानदार के गुड़ की quality बहुत ज्यादा खास नहीं थी। लेकिन quality में नीचे होने के बावजूद भी उस दूसरे दुकानदार के गुड़ की sale पहले दुकानदार के मुकाबले बहुत ज्यादा होती थी।

    अब दूसरे दुकानदार की दुकान पर ग्राहकों की भीड़ लगी रहती थी, जबकि पहला दुकान वाला पूरे दिन सिर्फ मक्खी मारता रहता था। इसका कारण यह था कि पहले दुकानदार की जुबान बहुत ज्यादा गंदी और कड़वी थी, जिसके चलते ग्राहक उसकी दुकान पर जाना पसंद नहीं करते थे।

    जबकि वहीं दूसरे दुकानदार की जबान बहुत मीठी थी और वह अपनी सभी ग्राहकों से बहुत अच्छी तरह से पेश आता था। यही वजह है कि quality उतनी अच्छी ना होने के बावजूद ग्राहक उसी की ही दुकान से गुड़ लेना पसंद करते थे। दोस्तों आज भी व्यापार में सफल और असफल होने में जुबान का बहुत बड़ा महत्व होता है और यह सीख चाणक्य हमें हजारों साल पहले ही दे चूके हैं। 

    Also, read : Swami Vivekananda in Hindi Biography, Story - स्वामी विवेकानंद

    अपनी Goodwill (प्रतिष्ठा) को बनाए रखें

    2 - अपनी Goodwill (प्रतिष्ठा) को बनाए रखें। 

    दोस्तों आचार्य चाणक्य कहते हैं कि इंसान को मुसीबत के समय से निपटने के लिए धन, दौलत इकट्ठा करना चाहिए इसमें कोई भी बुरा ही नहीं है। लेकिन एक चीज़ जो इंसान के लिए धन से भी कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण होती है। वह है उसकी पत्नी, क्योंकि पत्नी इंसान की इज्जत होती है और life में इज्जत का महत्व पैसे से बहुत ज्यादा होता है। इसी तरह से व्यापार में भी Business man की इज्जत उसकी Goodwill यानी की ख्याति होती है।

    क्योंकि व्यापार में पैसे चाहे कितना भी नुकसान क्यों ना हो जाए, उसकी भरपाई समय के साथ में की जा सकती है। लेकिन एक बार अगर किसी Businessman के Goodwill या फिर कहें कि नाम खराब हो गया, तो फिर उसको वापस बनाना लगभग नामुमकिन हो जाता है। ऐसे में अगर किसी भी Businessman के सामने कभी कोई ऐसी परिस्थिति आ जाए जहाँ वो अपनी Goodwill या पैसे में से कोई एक चीज़ ही बचा सकता हो। तो फिर इस situation में उसे बिना कुछ सोचे समझे अपनी Goodwill को ही बचाना चाहिए।

    क्योंकि दुनिया में जितनी भी बड़ी बड़ी और कामयाब Company मौजूद हैं। वे इसी Rule को ही follow करती है। एक उदाहरण के लिए Samsung का जब Galaxy Note 7 Market के अंदर कुछ Battery issue की वजह से Blast हो रहा था, तब Samsung ने अपने Goodwill को बचाना ज्यादा सही समझा। इसीलिए उन्होंने सभी Mobile Phone को वापस ले लिया था। 

    Also, read : 7 Wonders of the World Names in Hindi - दुनिया के सात अजूबे

    हद से ज्यादा सीधा और ईमानदार ना बने

    3- हद से ज्यादा सीधा और ईमानदार ना बने।

    Honesty is the Best Policy, यानी की ईमानदारी ही सर्वोत्तम नीती है। यह कहावत आप लोगों ने अपनी life में बहुत बार सुनी होगी। लेकिन अगर हमें आज इस दुनिया में रहना है और दुनिया के रफ्तार के साथ में चलना है तो इसके लिए हमारे अंदर ईमानदारी के साथ ही थोड़ी सी चालाकी का होना भी बहुत जरूरी है। दरअसल चाणक्य यह कहते हैं कि इंसान को बहुत ज्यादा सीधा और ईमानदार भी नहीं होना चाहिए। क्योंकि जंगल के अंदर सीधे पेड़ों को ही सबसे पहले काटा जाता है।

    इसका मतलब यह है कि आज की दुनिया में सीधा और ईमानदार रहकर कामयाब होना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है। क्योंकि दुनिया में सीधे लोगों का अक्सर गलत फायदा उठाया जाता है। इसी तरह से Business में भी इंसान को भोला बनकर अपने व्यापार की अहम बातें हर किसी के साथ मैं share नहीं करनी चाहिए। क्योंकि आज के जमाने में यह पता लगाना बेहद मुश्किल है कि कौन सा इंसान आपका भला चाहता है और कौन सा इंसान अंदर ही अंदर आप की जड़ें काटने की planning कर रहा है।

    अब इस बात का बहुत अच्छा उदाहरण हम Coca Cola Company से ले सकते हैं, जो कि पिछले 130 सालों से Soft drinks बेच रही है। दरअसल, Coca Cola के कामयाबी में सबसे बड़ा हाथ इस चीज़ का है तो उसने अपना Secret Formula आज तक किसी के भी साथ share नहीं किया है। जिसके चलते इतना समय बीत जाने पर भी कोई company आज तक अपनी soft drink में Coca Cola वाला taste नहीं दे पाई है .

    आचार्य चाणक्य भी हमें यही शिक्षा देते हैं कि अपने गहरे राज़ किसी के भी साथ में share मत करो क्योंकि ऐसा करना आपकी तबाही की वजह बन सकता है। 


    Also, read : Prithviraj Chauhan History in Hindi, Biography पृथ्वीराज चौहान

    नकारात्मक लोगों से दूर रहें

    4- नकारात्मक लोगों से दूर रहें।

    चाणक्य कहते हैं कि एक ज्ञानी पुरुष भी उसी समय दुखी हो जाता है जब वो किसी मूर्ख व्यक्ति की उपदेश सुनने लगता है। अपनी दुष्ट पत्नी का पालन पोषण करता है या फिर किसी भी दुखी व्यक्ति से गहरे संबंध बना लेता है।
    असल में दुनिया के अंदर ऐसे बहुत से लोग हैं जो कि सिर्फ Negative यानी की नकारात्मक बातें करते हैं और ऐसे लोग जहाँ भी जाते है वहाँ पर Negative energy फैलातें हैं।


    जिससे कि उनके संपर्क में आने वाला इंसान पूरी तरह से demotivate हो जाता है। Chanakya Niti हमें इस तरह की Negative बातें करने वाले लोगों से हमेशा ही दूर रहने की सलाह दी है। क्योंकि ऐसे लोग अपनी बातों से हमें demotivate करके आगे बढ़ने से रोक देते हैं।

    यही चीज़ व्यापार में भी लागू होती है जहाँ पर एक दुखी और Negative energy फैलाने वाला इंसान पूरे organization का माहौल ही खराब कर देता है, जिससे उसे व्यापार में काम करने वाले और उससे जुड़े हुए सभी लोग demotivate हो जाते हैं। हालांकि यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि चाणक्य ने हमें दुखी लोगों की मदद करने से मना नहीं किया, बल्कि उनसे सिर्फ इतनी ही दूरी बनाने के लिए बोला है जिससे की उनकी Negative energy का हम पर कोई बुरा प्रभाव ना पड़े। 

    Also, read : Top 5 Moral Stories in Hindi - Short Moral Stories | हिंदी कहानी

    सबसे बड़ी शक्ति जवानी और सुंदर स्त्री होती है

    5- सबसे बड़ी शक्ति जवानी और सुंदर स्त्री होती है।

    दोस्तों आचार्य चाणक्य ने कहा है कि दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति youth यानी की जवानी और सुंदर स्त्री होती है। उनके द्वारा दी गई इसी शिक्षा को आज दुनिया के हर एक Business में follow किया जाता है। आप लोगों ने इस बात पर तो गौर किया ही होगा की ज्यादातर office की receptionist एक सुंदर दिखने वाली जवान लड़की होती है। इसके अलावा plane के अंदर भी सिर्फ सुंदर और आकर्षक दिखने वाली लड़कियों को ही Air Hostess की नौकरी दी जाती है।

    असल में ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि अधिक से अधिक customers को attract किया जा सके। इसके अलावा दुनिया में मौजूद सभी तरह की Company में जवान लोगों को ही नौकरी पर रखना prefer किया जाता है और सिर्फ वो Higher Post के लिए ही बड़ी उम्र के अनुभवी लोगों को नौकरी दी जाती है। इस तरह से जाने अनजाने में आज भी दुनिया के हर एक Business के अंदर चाणक्य द्वारा बताई गई नीतियों को ही follow किया जा रहा है।

    Also, read : Munshi Premchand ki Kahani in Hindi - कफ़न Story in Hindi

     Deal के समय अपने आप को बराबरी का समझे

    6 - Deal(सौदा) के समय अपने आप को बराबरी का समझे।

    दोस्तों Business में हर इंसान को कई बार अपने से छोटे वो अपने से बड़े लोगों के साथ डील करनी ही पड़ती है। ऐसे में जब कोई Business man अपने से बड़े किसी व्यापारी के साथ किसी तरह की कोई डील करता है तो फिर उस समय उस बड़े व्यापारी के सामने यह दिखाने की कोई जरूरत नहीं होती कि वह उससे छोटा है।

    क्योंकि ऐसा करने से कई बार सामने वाला इंसान हावी होने लगता है। जिससे कि Business में नुकसान होने के chances बढ़ जाते हैं। इसके बारे में आचार्य चाणक्य हमसे यह कहते हैं साँप चाहे जहरीला ना भी हो तब भी उसे ऐसा दिखावा करना चाहिए जैसे की वो जहरीला है। 

    Also, read : Akbar Birbal ki Kahani in Hindi - बीरबल की चतुराई

    Business में हर किसी का दिल जीते

    7. Business में हर किसी का दिल जीते। 

    दोस्तों एक व्यापारी को कई अलग अलग तरह के लोगों के साथ डील करनी पड़ती है और बहुत से अलग अलग स्वभाव वाले लोगों को खुश भी करना पड़ता है। ऐसे में एक अच्छा Businessman वही कहलाता है जिसे सभी तरह के लोगों को खुश करना आता हो। क्योंकि किस व्यक्ति को किस तरह से Handel करना है यह पता होना हर एक Businessman के लिए बहुत जरूरी होता है।

    ये चीज़ हम आचार्य चाणक्य से भी सीख सकते हैं, दरअसल चाणक्य हमसे ये कहते हैं। एक घमंडी व्यक्ति को respect देकर उसे खुश रखा जा सकता है, एक बेवकूफ व्यक्ति को मूर्खता करने देना ही उसे खुश रखता है, और समझदार इंसान को सिर्फ सच बोलकर ही जीता जा सकता है।

    Also, read : Krishna Story in Hindi - श्री कृष्ण की कहानी | Lord Krishna 

    तो दोस्तों यह थे आचार्य ki Chanakya Niti in Hindi, Business Management की कुछ बेहतरीन नीतियां। उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी जरूर पसंद आई होगी आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। 

    Also, read.

    ➤ Real Horror Story in Hindi

    ➤ Hindi Kahani

    ➤ Historic Story

    ➤ Old Story

    ➤ Stories

    ➤ Writing

    No comments:

    Post a Comment