• Sunday, July 17, 2022

    Hindi Kahani for Kids - शेर और गाय की कहानी

    Hindi Kahani for Kids - Sher aur Gaay ki Kahani

    Hindi Kahani for Kids - sher aur gaay ki kahani

    स्वागत करता हूं हमारे Blog, Hindi Best Stories में, बचपन में कहानी सुनना  सभी को अच्छा लगता था। आज की Hindi Kahani for Kids में आपको शेर और गाय की एक कहानी सुनाने जा रहा हूं। इस कहानी को बच्चों और दोस्तों के साथ शेयर करें, ताकि वे भी इस कहानी का आनंद ले सके।


    एक बार की बात है एक गाय (Cow)घास चढ़ने के लिए जंगल में गई, शाम ढलने ही वाली थी की उसने देखा एक बाघ (Tiger) उसकी तरफ दबे पांव आ रहा था। वह डर के मारे इधर उधर भागने लगीं, वह बाघ भी उसके पीछे दौड़ने लगा, दौड़ते हुए गाय कों सामने एक तालाब दिखाई दिया, घबराई हुई गाय उस तालाब के अंदर घुस गई वह बाघ भी उसका पीछा करते हुए तालाब के अंदर घुस गया।

    Also, read : Pari ki kahani in Hindi - जादुई परी की कहानी - Hindi Kahani

    तब उन्होंने देखा कि वह तालाब बहुत गहरा नहीं था, उसमें पानी कम था और वह कीचड़ से भरा हुआ था। उन दोनों के बीच दूरी काफी कम हो गयी, लेकिन अब वह दोनों कुछ भी नहीं कर पा रहे थे। वह गाय उस कीचड़ के अंदर धीरे धीरे धंसने लगी, वह बाग भी उसके पास होते हुए भी उसे पकड़ नहीं पा रहा था।
    Hindi Kahani for Kidsवह भी धीरे धीरे कीचड़ के अंदर धंसने लगा, दोनों ही करीब करीब गले तक उस कीचड़ के अंदर फस गए। दोनों हिल भी नहीं पा रहे थे, गाय के करीब होने के बावजूद भी वह बाघ उसे नहीं पकड़ पा रहा था। थोड़ी देर बाद गाय ने उस बाघ से पूछा। Read full Hindi Kahani.

    Also, read : Bachon Ki Kahani in Hindi - एक जिद्दी बच्चे की कहानी

    क्या तुम्हारा कोई गुरु या कोई मालिक है? बाघ ने गुर्राते हुए कहा मैं तो जंगल का राजा हूँ, मेरा कोई मालिक नहीं, मैं खुद ही जंगल का मालिक हूँ, गाय ने कहा, लेकिन तुम्हारी उस शक्ति का यहाँ पर क्या उपयोग है?

    उस बाघ ने कहा तुम भी तो फस गई हो और मरने के करीब हो तुम्हारी भी तो हालत मेरे ही जैसी है। गाय ने मुस्कुराते हुए कहा, बिल्कुल नहीं, मेरा मालिक जब शाम को घर आएगा और मुझे वहाँ नहीं पाएगा तो वह ढूँढते हुए यहाँ जरूर आएगा और मुझे इस कीचड़ से निकाल कर अपने घर ले जाएगा। लेकिन तुम्हे कौन ले जाएगा?

    शेर और गाय की कहानी

    थोड़ी ही देर बाद सच में एक आदमी(Man) वहाँ पर आया और गाय को कीचड़ से निकाल कर अपने घर ले गया। जाते समय गाय और उसका मालिक दोनों एक दूसरे की तरफ कृतज्ञतापूर्वक देख रहे थे। वे चाहते हुए भी उस बाघ को कीचड़ से नहीं निकाल सकते थे, क्योंकि उन्हें अपनी जान का खतरा था।

    Also, read : Pyasa Kauwa ki Kahani - Thirsty Crow Story in Hindi | कहानी

    Also, read : हाथी और तोता की कहानी - Hathi aur Tota ki Kahani | Hindi Story 

    दोस्तों, किसी पर निर्भर नहीं होना अच्छी बात है, लेकिन मैं ही सब हूँ मुझे किसी के सहयोग की कोई आवश्यकता नहीं है। यही अहंकार है और यहीं से विनाश का बीजारोपण हो जाता है, ईश्वर से बड़ा इस दुनिया में सच्चा हितैषी कोई नहीं होता। क्योंकि वही अनेक रूपों में हमारी रक्षा करता है।

    दोस्तों, हमारी इस शेर और गाय की कहानी  में गाय समर्पित हृदय का प्रतीक है, बाग अहंकारी मन का प्रतीक है, और मालिक ईश्वर का प्रतीक है, कीचड़ यह संसार है, और यह संघर्ष अस्तित्व की लड़ाई है।

    तो दोस्तों कैसी लगी आपको? हमारी ये Hindi Kahani for Kids. ऐसी और नई कहानियों के लिए हमारे चैनल को तुरंत Save करे।

    धन्यवाद

    Also, read.

    ➤ Real Horror Story in Hindi

    ➤ Hindi Kahani

    ➤ Historic Story

    No comments:

    Post a Comment