• Sunday, July 24, 2022

    Akbar Birbal ki Kahani in Hindi - बीरबल की चतुराई

    Akbar Birbal ki Kahani in Hindi - बीरबल की चतुराई

    Akbar Birbal ki Kahani in Hindi

    दोस्तों स्वागत है हमारे Blog, Hindi Best Stories में, आज मै आप को Akbar Birbal ki Kahani in Hindi में,  बताने जा रहा हूं। दोस्तों कहानियां तो हमने बहुत सुनी है पर कुछ कहानियां ऐसी होती है जिसे सुनने से हमें सीख मिलती है। आज मैं आपको ऐसी ही एक प्रसिद्ध कहानी "Birbal ki Chaturai" सुनाने जा रहा हूं। 


    अकबर बीरबल की कहानी आप ने अपने बचपन में T.V , School में कहानी सुनी होगी या देखी होगी। अकबर बीरबल की कहानी बहुत प्रसिद्ध है, उन सब कहानियों में से एक कहानी "बीरबल की चतुराई "आज हम आपको बताने जा रहे हैं। उम्मीद करता हूं आपको पसंद आएगी।

    चलिए शुरू करते हैं मजेदार Akbar Birbal ki Kahani

    सुबह का समय था, बादशाह अकबर बिस्तर पर पड़े पड़े पानी मांगे जा रहे थे, आसपास उनका कोई सेवक नजर नहीं आ रहा था। पता नहीं कहाँ से महल के कचरा साफ करने वाले एक मामूली से नौकर ने उनकी आवाज सुन ली और वह पानी का गिलास लेकर उनके पास आ गया।

    Also, read : Munshi Premchand ki Kahani in Hindi - कफ़न Story in Hindi

    Hindi kahani

     बादशाह अकबर को इतनी प्यास लगी थी कि वे खुद को उसके हाथ से पानी लेने से नहीं रोक पाए। तभी वहाँ बादशाह अकबर के खास सेवक आ गए और उन्होंने उस कचरा साफ करने वाले को वहाँ से निकाल दिया। दोपहर हुई तो बादशाह अकबर का पेट खराब हो गया, हकीम को भी बुलाया गया फिर भी महाराज अकबर की हालत में सुधार नहीं हुआ, फिर राजवैद्य भी आये उनके साथ ज्योतिषी भी थे।

    उन्होंने कहा, शायद आप पर किसी मनहूस व्यक्ति का साया पड़ा है, इसलिए ही आपकी तबियत खराब हुई है। बादशाह अकबर को तुरंत उस कचरा साफ करने वाले नौकर का खयाल आया और उन्होंने सोचा, उसी मनहूस के हाथ से पानी पीकर मैं बीमार हुआ हूँ और बादशाह अकबर ने गुस्से में उसे सजा ए मौत सुना दी। 
    Birbal ki Chaturai

    जब बीरबल को इस बात का पता चला तो वह उस नौकर के पास गए और उसे सांत्वना देने लगे कि उसे बचा लेंगे। इसके बाद बीरबल अकबर के पास गए और उनका हालचाल पूछा तब महाराज अकबर ने बताया कि हमारे राज्य के सबसे मनहूस आदमी ने मुझे बीमार कर दिया यह बात सुनकर बीरबल हस पड़े।

    Also, read : Prithviraj Chauhan History in Hindi, Biography पृथ्वीराज चौहान 

    तब अकबर को यह देखकर गुस्सा आया और वह बोले क्या तुम मेरी हालत देखकर मज़ा ले रहे हो? बीरबल ने कहा नहीं, नहीं महाराज, पर मैं एक बात पूछना चाहता हूँ। अगर मैं आपको उस नौकर से बड़ा मनहूस ढूँढकर दे दूँ तो आप क्या करेंगे? क्या आप उस नौकर को सजा ए मौत से मुक्त कर देंगे?

    अकबर बीरबल की कहानी
    अकबर ने तुरंत बीरबल की बात मान ली और पूछा आप बताओ उस नौकर से बड़ा मनहूस कौन है? अब बीरबल बोले उस नौकर से बड़े मनहूस तो आप खुद है। उस नौकर के हाथ से पानी पीने पर आपकी तो सिर्फ तबियत खराब हुई है। लेकिन ज़रा सोचिए सुबह सुबह आपकी प्यास बुझाने के चक्कर में उसने आपके शकल देखी सुबह सुबह आपकी शकल देखने से उसे तो सजा ए मौत मिल गई।

    इसलिए उस नौकर से बड़े मनहूस तो आप हुए। अब आप खुद को मौत की सजा मत दीजिएगा, क्योंकि हम सब आपसे बहुत प्यार करते हैं। बीरबल की यह चतुराई भरी बात सुनकर अकबर बिस्तर पर पड़े पड़े हंसने लगे। 

    Akbar Birbal ki Kahani

    उन्होंने उसी वक्त उस गरीब नौकर को छोड़ने का आदेश दिया और उसे इनाम भी दिया। मनुष्य का अंधविश्वासी सुझाव देने वाले ज्योतिषी को घोड़े का तबेला साफ करने में लगा दिया।

    दोस्तों तो यह थी Akbar Birbal ki Kahani in Hindi मै, उम्मीद करता हूं आपको यह कहानी पसंद आई होगी। और भी अकबर बीरबल की कहानियां मैं यहां पर post करूंगा।  अगर आपको  कहानी पढ़ना अच्छा लगता है, तो हमारी Blog  को save  करले आप और भी अन्य  कहानी हमारी इस  Blog पर पढ़ सकते हैं। धन्यवाद

    Also, read.

    ➤ Real Horror Story in Hindi

    ➤ Hindi Kahani

    ➤ Historic Story

    ➤ Old Story

    No comments:

    Post a Comment