• Thursday, May 19, 2022

    नदी किनारे चुड़ैल को देखा हम चारो ने - Chudail Story

    नदी किनारे चुड़ैल को देखा हम चारो ने - Chudail Story

    Nadi Kinare Chudail Ko Dekha Hum Charo Ne Story - Chudail Story
    Read Chudail story in hindi
    आज मै आप को एक चुड़ैल की कहानी (chudail story) सुनाने जा रहा हूँ। मुझे उम्मीद है आपको ये कहानी पसंद आएगी।

    मेरा नाम Piyush है, मैं Punjab के भटिंडा का रहने वाला हूं। मैं जो बात आपको बताने जा रहा हूं, ये मेरे साथ 2016 में हुआ था, जब मैं 12th Class में पढ़ा करता था। तो हुआ ऐसा था कि एक बार मेरे चाचा के लड़के की शादी होने वाली थी तो हमारे घर में बहुत सारे रिश्तेदार वगैरा आए हुए थे।

    तो एक शाम मेरे 3 दोस्त मानव ,अजय और दीपक मेरे घर आ रखे थे, हम चारों घर पर बैठे बातें कर रहे थे तो हमने देखा कि मेरे कुछ रिश्तेदार घर में बैठे Beer पी रहे थे। तो उनको देखकर हमारा भी Beer पीने का मन करने लगा, लेकिन हम ऐसे सबके सामने Beer नहीं पी सकते थे। इसलिए हम लोगों ने Plan बनाया और घर में बहाना लगा के बाहर Beer पीने चले गए।

    फिर Beer Shop से हमने चार Beer खरीदी और कुछ chips के packet भी ले लिये और उस जगह से कुछ दूर एक park पड़ता था, रात के समय उस park में कोई आता जाता नहीं था, इसलिए हमने सोचा कि अगर वहां जाकर Beer पिएंगे, तो कोई हमें देख नहीं पायेगा और फिर हम चारों दोस्त bike लेकर उस park में beer पीने चले गए।

    वो वहां से करीब 7 kilometer दूर पड़ता था, जब हम उस जगह पहुंचे तो रात के 10:45 बज चुके थे park के gate पर ताला लगा हुआ था, लेकिन हम गेट कूद के उसके अंदर चले गए park में बिल्कुल सन्नाटा था कहीं कोई आवाज नहीं आ रही थी।

    व गर्मी का मौसम था लेकिन गर्मी के मौसम में भी उस park में एक अजीब सी ठंड लग रही थी। फिर हम चारों park के अंदर गए और एक जगह बैठकर beer पीने लगे, Beer पीते और chips खाते हुए हम आपस में हंसी मजाक कर रहे थे। इसी बीच मेरा दोस्त दीपक बोला कि मैं bathroom करने जा रहा हूं तो मैंने कहा रुक मैं भी तेरे साथ चलता हूं, मैं भी उठ उसके साथ जाने लगा।

    तो पीछे से मानव भी हमारे साथ आ गया उसको भी toilet जाना था, अब अजय वहा अकेला रह गया था, फिर हम तीनो toilet करके वापस आए, तो अजय बोला कि यार बहुत देर हो गई है चलो अब घर वापस चलते हैं। तो हम तीनों उसका मजाक उड़ाने लगे बोले कि तू डरपोक है हम तुझे अकेला छोड़ गए इसलिए तो डर गया। अजय बोला नहीं ऐसा नहीं है मैं डरपोक नहीं हूं।

    तो मानव बोला ठीक है, अगर तू डरपोक नहीं है तो वहां दूसरी तरफ जो तालाब पड़ता है उसके पास जाकर वापस आ कर दिखा, अजय अकेला वहां जाने में डर रहा था। लेकिन फिर भी वह जाने को तैयार हो गया, हम तीनों वहीं बैठे थे फिर कुछ देर बाद अजय वापस आ गया लेकिन जब वह वापस आया तो बहुत डरा हुवा लग रहा था।
    Chudail Story
    हमने उससे पूछा कि क्या हुआ इतना डरा क्यों हुआ है तो उसने बताया कि जब वह तालाब के पास गया तो वहां उसको सफेद साड़ी पहने एक औरत बैठी गाने गाते दिखाई दी। उस औरत को देखकर वह डर के मारे वहां से भाग के आ गया, उसकी बात सुन के मानव हंसने लगा, बोला अजय तो डरपोक होने के साथ-साथ पागल भी हो गया है।

    रात के 12:00 बजे कौन औरत तालाब के पास बैठकर गाना गाएगी है, तो अजय गुस्से से बोला कि मैं झूठ नहीं बोल रहा हूं, अगर तुमको मेरी बात पर यकीन नहीं है, तो तुम खुद चल कर देख लो। हमने कहा ठीक है, ऐसी बात है तो हम चल के देख ही लेते हैं। और फिर हम चारों तालाब के पास चले गए लेकिन हमें वहा कोई औरत दिखाई नहीं दी।

    मानव बोला कहां गई तेरी वह singer औरत अजय बोला अभी थोड़ी देर पहले तो उसको यही देखा था, पता नहीं अब वह कहां चली गई। मैंने कहा अजय लगता है तुझे beer नहीं दारू वाला नशा चढ़ गया है। फिर हम सब लोग वहां से वापस जाने लगे लेकिन कुछ कदम दूर जाते ही हमें तालाब के side में एक औरत पानी में पैर लटकाए बैठे दिखाई दी, उसको देखकर हमें बहुत अजीब लगा क्योंकि अभी कुछ देर पहले तक तो वहां कोई भी नहीं था।

    अजय बोला देखो यह वही औरत है, यह पक्का कोई chudail है लेकिन दीपक नशे में बोला ऐसा कुछ नहीं है चुड़ैल वूडेल कुछ नहीं होता। लेकिन उस औरत ने कोई जवाब नहीं दिया तो हम चारों उस औरत के पास गए और उससे पूछा कि तुम कौन हो और इतनी रात यहां क्या कर रही हो, तो जब औरत ने हमारी तरफ अपना मुंह किया तो उसका मुंह देखते ही हमारे तो आवाज ही निकलनी बंद हो गई।

    हम ने देखा कि उसका मुंह पूरा फटा हुआ था, और मुंह से खून निकल रहा था,
    उसके बाल बहुत लंबे थे और आंखें किसी bulb की तरह चमक रही थी। वह देखते ही हम चारों वहां से भागने लगे लेकिन हमें अपने पीछे से उसके भागने की आवाज भी आ रही थी। भागते हुए वह अजीब ही तरह से गुर्रा रही थी, हम चारों तेजी से भागते हुए गेट कूद के बाहर निकले और बिना रुके अपनी bike start करने लगे।

    Bike start करते हुए हमने देखा कि वह औरत park के गेट के ऊपर बैठी थी और हमारी तरफ देखकर बहुत ही डरावने तरीके से मुस्कुरा रही थी। हम पूरे रास्ते भगवान का नाम लेते हुए सीधा अपने घर आ पहुंचे। घर मै चहल-पहल हो रखी थी लेकिन हमने किसी को कुछ नहीं बताया,और चुपचाप एक कमरे में जाकर सो गए, उस रात को याद करके हम आज भी बहुत डर जाते हैं।

    दोस्तो comment करके जरूर बताएं आपको यह कहानी कैसी लगी प्लीज़ हमे।

    Also, read

    No comments:

    Post a Comment